Contributing to Indian Economy

GST Logo
  • GST Suvidha Kendra

  • H-183, Sector 63, Noida

  • 09:00 - 21:00

  • प्रतिदिन

4 लाख करोड़ का कर बोझ कोरोना संकट में, राज्यों पर कर्ज बढ़ाने का दबाव

Contact Us
4 लाख करोड़ का कर बोझ कोरोना संकट में

4 लाख करोड़ का कर बोझ कोरोना संकट में, राज्यों पर कर्ज बढ़ाने का दबाव

gst suvidha kendra ads banner

यदि केंद्र सरकार उत्पादों और सेवा कर (जीएसटी) घाटे को पकड़ने के लिए बाध्य नहीं है, तो राज्य उच्च दर पर उधार लेने के लिए मजबूर हैं। मूल्यांकन के अनुरूप, राज्यों को कोरोना संकट के कारण लगभग 4 लाख करोड़ रुपये का कर नुकसान उठाना पड़ सकता है। विशेषज्ञों की राय के अनुसार, केंद्र सरकार को वैकल्पिक रास्ता खोजना चाहिए और राज्यों की सहायता के लिए आगे उपलब्ध होना चाहिए।

पूर्व आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने हिंदुस्तान से बातचीत के दौरान कहा कि केंद्र सरकार राज्यों को महामारी के कारण हुए नुकसान की भरपाई के लिए बाध्य नहीं है। ऐसे में जीएसटी काउंसिल को कुछ चीजों पर टैक्स बढ़ाना चाहिए और राज्यों के घाटे की भरपाई करनी चाहिए। जीएसटी अधिनियम यह प्रदान करता है कि नुकसान की स्थिति में, अक्सर कर बढ़ाकर चुकाया जाता है। हालांकि राज्यों के पास उधार लेने का विकल्प भी है, जो उनके हित में नहीं होगा। उन्होंने यह भी सलाह दी है कि या तो केंद्र सरकार या जीएसटी परिषद को राज्यों की आर्थिक जरूरतों को उधार लेकर पूरा करने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

आर्थिक मामलों के विशेषज्ञ प्रणब सेन ने कहा कि कोरोना संकट के दौर में, राज्यों पर आर्थिक बोझ बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि राज्यों को लोगों को रोजगार देने के साथ ही उनके इलाज के मूल्य को भी वहन करने की जरूरत है। ऐसी स्थिति में, उन्हें आने वाले दिनों में और अधिक वित्तीय मदद की आवश्यकता होगी। यह अनुमान है कि कोरोना महामारी के कारण, राज्यों को इस वर्ष कर में लगभग 4 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा।

प्रणब सेन ने यह भी कहा कि मध्य ने राज्यों को ऋण लेने का विकल्प दिया है। लेकिन अगर राज्य उधार लेते हैं, तो उन्हें केंद्र सरकार की तुलना में महंगा ऋण मिलने वाला है। एक समतुल्य समय में, राज्यों को विस्तारित अवधि के लिए ऋण का नुकसान उठाना पड़ेगा। ऐसे में उनकी स्थिति और खराब होने वाली है। उन्होंने सुझाव दिया है कि केंद्र सरकार को राज्यों की वित्तीय मदद के लिए वार्ड खोजने की कोशिश करते हुए राज्यों को धन की आपूर्ति कैसे करनी चाहिए और इसलिए वित्त मंत्री को वैकल्पिक रास्ते की तलाश करनी चाहिए।

 

gst suvidha kendra ads banner

Share this post?

custom

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

7 + two =

Shares