Contributing to Indian Economy

GST Logo
  • GST Suvidha Kendra®

  • H-183, Sector 63, Noida

  • 09:00 - 21:00

  • प्रतिदिन

ई-वॉलेट सुरक्षित करने के बारे में सब कुछ

Contact Us
ई-वॉलेट सुरक्षित करने के बारे में सब कुछ

ई-वॉलेट सुरक्षित करने के बारे में सब कुछ

gst suvidha kendra ads banner

ई-वॉलेट एक इलेक्ट्रॉनिक एप्लिकेशन है जो किसी भी व्यक्ति को ई-कॉमर्स ट्रेड करने की अनुमति देता है। व्यक्ति डिजिटल मुद्रा के साथ उपयोगिता बिलों का भुगतान कर सकता है, उड़ानें बुक कर सकता है, सामान खरीद सकता है, आदि।

ग्राहकों की व्यक्तिगत रूप से पहचान योग्य और व्यक्तिगत जानकारी को स्थायी रूप से ई-वॉलेट में संग्रहीत किया जाता है। इसके लिए केवल ओटीपी जैसे माध्यम से उपयोगकर्ता से अंतिम सत्यापन की आवश्यकता होती है।

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इन ई-वॉलेट को खतरों का सामना करना पड़ सकता है?

हाँ!!

वे फ़िशिंग, मैलवेयर आदि जैसे हमलों का सामना कर सकते हैं। इन हमलों को रोकने के लिए कुछ उपाय हैं।

आइए पढ़ते हैं उनके बारे में।

ई-वॉलेट के लिए क्या खतरे हैं?

1. सिम स्वैप और प्रतिरूपण हमले:

सिम स्वैप तब होता है जब धोखेबाज उपयोगकर्ता डेटा एकत्र करता है, अपने मोबाइल फोन सिम कार्ड को ब्लॉक करता है और नकली पहचान के साथ एक डुप्लीकेट सिम लेता है। मोबाइल ऑपरेटर वास्तविक सिम को ब्लॉक कर देता है और एक नया सिम कार्ड जारी करता है।

सिम स्वैप और प्रतिरूपण हमलों को कैसे रोकें:

क्या आपको कभी स्पैम कॉल आए हैं जिसमें आपसे आपकी व्यक्तिगत जानकारी मांगी गई है? क्या आप सिम स्वैप के शिकार हैं? क्या आपको ऑनलाइन लूटा गया था? खैर, आप अकेले शिकार नहीं हैं, आपके जैसे कई हैं।

वित्तीय सहायता कर्मचारी या सेवा प्रदाता आपसे कभी भी आपकी निजी जानकारी साझा करने के लिए नहीं कहेंगे।

हाल ही में फ्लोरिडा में एक सिम स्वैप का मामला सामने आया जहां एक व्यक्ति ने अपनी सारी जिंदगी की बचत खो दी। इसी तरह भारत में सिम स्वैप के कई मामले सामने आ रहे हैं।

भारतीय रिजर्व बैंक लगातार विज्ञापनों के माध्यम से जागरूकता फैला रहा है – “अपनी व्यक्तिगत जानकारी साझा न करें।”

2. फ़िशिंग और मैन-इन-द-मिडिल हमले:

मैन-इन-द-मिडिल या मैन-इन-द-ब्राउज़र हमलों जैसे जटिल खतरे ऑनलाइन लेनदेन को बाधित करते हैं। वे इंटरनेट गेटवे से भुगतान की जानकारी पढ़ते हैं। यह तब किया जाता है जब ग्राहक अपने बैंक खाते या क्रेडिट कार्ड की जानकारी टाइप कर रहा हो।

फ़िशिंग हमलों का उपयोग उपयोगकर्ता के निजी डेटा और लॉगिन जानकारी को चुराने के लिए किया जाता है। इसलिए, यह ई-वॉलेट खातों को धोखाधड़ी का शिकार बनाता है।

फ़िशिंग हमलों को कैसे रोकें:

आपको वेबसाइट के यूआरएल को वेरीफाई करना होगा। इसके लिए आप डिजिटल सर्टिफिकेट वैलिडेशन के साथ वेबसाइट ऑथेंटिसिटी सेट अप करेंगे। आप कार्रवाई कर सकते हैं- फ़ाइल> गुण> प्रमाणपत्र। इसके अलावा आप विंडो के निचले कोने या ऊपर दाईं ओर दिए गए पैडलॉक साइन पर डबल क्लिक कर सकते हैं।

नोट:

gst suvidha kendra ads banner

आपको उन टेक्स्ट या ईमेल संदेशों को नज़रअंदाज़ करना चाहिए जो आपकी व्यक्तिगत जानकारी के लिए पूछताछ करते हैं। इसके अलावा आप अपना विवरण “http” वेबसाइटों के बजाय केवल “https” वेबसाइटों पर डालें।

ई-वॉलेट सुरक्षित

उदाहरण के लिए, ऊपर की छवि की जाँच करें। प्रोलॉजिक वेब सॉल्यूशंस, जीएसटी सुविधा केंद्र® की मूल कंपनी प्रामाणिक रूप से काम करती है। यही कारण है कि उन्होंने अपनी वेबसाइट को https से सुरक्षित कर लिया है। यह अपने उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता और अखंडता की रक्षा करता है। इसलिए, यह एक विश्वसनीय कंपनी है।

3. मैलवेयर हमले

आजकल, मोबाइल ऐप भुगतान करने के लिए सुरक्षित नहीं हैं। उन्हें मालवेयर अटैक की धमकी दी जाती है। यह एक तरह का अटैक है जिसमें एक हमलावर ऐप पर हमला करने के लिए मैलवेयर इंजेक्ट करता है। वे फोन से डेटा इकट्ठा करते हैं और उसका दुरुपयोग करते हैं।

मैलवेयर के हमलों को कैसे रोकें:

अपने वॉलेट सॉफ्टवेयर को हमेशा अप-टू-डेट रखें। यह ऐप में स्थिरता प्रदान करेगा और समय पर सुरक्षा को ठीक करेगा। अपडेट आपको वॉलेट को सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, आपको वॉलेट वातावरण को बचाने के लिए अन्य सभी कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर के लिए अपडेट इंस्टॉल करना चाहिए।

अनुप्रयोगों में खतरों का पता लगाने और उन्हें हटाने के लिए आपको सुरक्षा सॉफ़्टवेयर का उपयोग करना चाहिए। इसमें घुसपैठ का पता लगाने वाली प्रणाली, फायरवॉल और मैलवेयर और वायरस का पता लगाना शामिल होगा। आप मोबाइल सुरक्षा समाधानों को स्थापित और सक्रिय करके मैलवेयर के हमलों को रोक सकते हैं।

ई-वॉलेट सुरक्षित करने के लिए सर्वोत्तम अभ्यास क्या हैं?

सुरक्षित नेटवर्क कनेक्शन का उपयोग करें-

सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क के उपयोग को रोकने और विश्वसनीय नेटवर्क से जुड़ने के लिए यह अत्यंत आवश्यक है। विश्वसनीय और सुरक्षित वाई-फाई कनेक्शन “WPA2 या WPA” के रूप में पहचाने जाते हैं। इन कनेक्शनों को उपयोगिता के लिए मजबूत पासवर्ड की आवश्यकता होती है।

उपकरणों पर पासवर्ड की अनुमति दें-

ई-वॉलेट का उपयोग करने से पहले आपको अपने किसी भी डिवाइस पर मजबूत पासवर्ड सक्षम करना होगा। यह उपकरणों पर अतिरिक्त सुरक्षा परतें जोड़ देगा और हानिकारक हमलों को रोकेगा।

विश्वसनीय स्रोतों से एप्लिकेशन इंस्टॉल करें-

ई-वॉलेट ऐप इंस्टॉल करने से पहले आपको समीक्षाएं पढ़नी चाहिए और उपयोगकर्ता रेटिंग देखनी चाहिए। यह आपको ऐप की अखंडता के बारे में कुछ जानकारी प्रदान करेगा। आपको यह जांचना होगा कि ई-वॉलेट प्रदाता ने महत्वपूर्ण नियम और शर्तें निर्धारित की हैं या नहीं। साथ ही, जांचें कि क्या प्रदाता ने सही ग्राहक सहायता संख्या दी है।

डिजिटल वॉलेट के लिए एक विशेष पासवर्ड सेट करें-

अनधिकृत पहुंच के जोखिम को रोकने के लिए आपको कठिन या अद्वितीय पासवर्ड सेट करना चाहिए।

कपटपूर्ण मुद्दों की स्थिति में संपर्क के बिंदुओं का पता लगाएं-

आपको अपने खाते में होने वाली किसी भी कपटपूर्ण गतिविधि के लिए उपयुक्त संपर्क बिंदुओं को समझना चाहिए। गतिविधि तब हो सकती है जब आपका फोन चोरी / खो जाता है या आपका वॉलेट खाता हैक हो जाता है। उपयोगकर्ता को ई-वॉलेट ऐप्स में दिए गए नियमों और शर्तों को समझना चाहिए।

लॉगिन क्रेडेंशियल सुरक्षित रखें-

आप लॉगिन क्रेडेंशियल्स को असुरक्षित फ़ाइल में संग्रहीत न करके उनके दुरुपयोग से बच सकते हैं। इसके अलावा, आपको डिजिटल वॉलेट एक्सेस जानकारी को सामान्य दृश्य में लिखने से बचना चाहिए।

मोबाइल फोन की नेटवर्क कनेक्टिविटी स्थिति से अवगत रहें-

कष्टप्रद कॉल प्राप्त करने से बचने के लिए आपको अपने मोबाइल फोन बंद नहीं करने चाहिए। इसके बजाय आप कॉल का जवाब न देकर उनसे बच सकते हैं। आपको ध्यान देना चाहिए कि क्या आपको ई-वॉलेट ऐप्स की एसएमएस सूचना समय पर मिल रही है। यदि नहीं, तो यह सुनिश्चित करने के लिए मोबाइल ऑपरेटर से संपर्क करें कि आपका खाता किसी खतरे में नहीं है।

निष्कर्ष

पिछले दो वर्षों में भारत का डिजिटल भुगतान 90% तक बढ़ गया है। हम 2026 तक एक अच्छी मूल्य राशि तक पहुंचने की संभावना रखते हैं। नवीनतम तकनीक का आनंद लेने के लिए हमें कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए।

गोपनीयता की चिंता इन दिनों आम हो गई है। इसका कारण साइबर क्राइम की बढ़ती संख्या है। इसलिए, जनता को उन कई खतरों के बारे में शिक्षित करना महत्वपूर्ण है जिनका वे सामना कर सकते हैं। उन्हें उपरोक्त निवारक उपाय करने चाहिए और अपने ई-वॉलेट को सुरक्षित करना चाहिए।

gst suvidha kendra ads banner

Share this post?

Bipin Yadav

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

1 × 3 =

Shares