Contributing to Indian Economy

GST Logo
  • GST Suvidha Kendra®

  • H-183, Sector 63, Noida

  • 09:00 - 21:00

  • प्रतिदिन

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान

Contact Us
प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान

gst suvidha kendra ads banner

वर्तमान परिदृश्य में डिजिटल साक्षरता महत्वपूर्ण है। यह लोगों के बीच डिजिटल तकनीक के बारे में एक अंतर्दृष्टि बनाता है। एक डिजिटल रूप से साक्षर व्यक्ति ऑनलाइन संदेशों का प्रभावी ढंग से उपयोग कर सकता है।

तकनीक हम पर हर जगह हावी हो रही है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक वयस्क और बच्चे को डिजिटल ज्ञान होना चाहिए।

परिणामस्वरूप, प्रधान मंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान शुरू किया गया। इसे डिजिटल इंडिया प्रोग्राम योजना के तहत शुरू किया गया था।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में 6 करोड़ परिवारों को साक्षर बनाना है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान क्या है?

यह डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के तहत शुरू की गई सरकार की योजना है। पीएमजीदिशा का लक्ष्य 6 करोड़ ग्रामीण आबादी को डिजिटल रूप से साक्षर बनाना है। इसका लक्ष्य ग्रामीण लोगों के जीवन को बेहतर बनाना है।

इस योजना का उद्देश्य 40% ग्रामीण परिवारों को डिजिटल और आईटी प्रशिक्षण प्राप्त करने योग्य बनाना था। प्रत्येक पात्र परिवार से कम से कम एक डिजिटल रूप से निरक्षर व्यक्ति को चुनकर इन नंबरों को कवर करने की योजना बनाई गई थी। सरकार ने 31 मार्च 2019 तक इस लक्ष्य को हासिल करने की योजना बनाई थी लेकिन योजना को आज तक पार कर लिया गया है।

अवलोकन (Overview)

यह महत्वपूर्ण है कि डिजिटल तकनीक समाज के सभी सदस्यों के सामने आनी चाहिए। यह युग की मांग है। अन्यथा, अमीर और गरीब लोगों के बीच भारी अंतर होगा।

यह योजना समाज के लिए एक सेतु का काम करेगी। यह शक्तिशाली और गरीबों के बीच की खाई को विभाजित करेगा। यह मुख्य रूप से अल्पसंख्यकों जैसे समाज के कमजोर वर्गों सहित ग्रामीण लोगों को लक्षित करता है। यह बीपीएल लोगों, महिलाओं और अलग-अलग विकलांग व्यक्तियों पर केंद्रित है।

जीएसटी सुविधा केंद्र

पीएमजीदिशा (PMGDISHA) का उद्देश्य

  • ग्रामीण नागरिकों को डिजिटल रूप से साक्षर बनाकर उन्हें सशक्त बनाना।
  • इन डिजिटल उपकरणों में टैबलेट, स्मार्टफोन और कई अन्य शामिल हैं।
  • सरकारी वेबसाइटों को इन ऐप्स का उपयोग करने के तरीके पर प्रशिक्षण देकर ग्रामीण नागरिकों के लिए सुलभ बनाना।
  • गरीब-अमीर और शहरी-ग्रामीण के बीच डिजिटल खाई को मिटाना।
  • भारत के प्रत्येक नागरिक को डिजिटल रूप से साक्षर बनाना।
पीएमजीदिशा का उद्देश्य

पात्रता (Eligibility)

कोई भी पीएमजीदिशा का हिस्सा नहीं बन सकता है। इस योजना में भाग लेने के लिए, आपको पीएमजीदिशा के पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा।

  • एक व्यक्ति जो हर उपयुक्त ग्रामीण घर से डिजिटल रूप से निरक्षर है।
  • आयु सीमा 14-60 वर्ष के बीच है।

प्राथमिकता दी जाएगी

  • बेसिक फोन उपयोगकर्ता और स्कूल छोड़ने वाले। अंत्योदय परिवार और वयस्क साक्षरता मिशन में भाग लेने वाले।
  • कक्षा 9-12वीं के डिजिटल रूप से गरीब स्कूली छात्र जिन्हें आईसीटी प्रशिक्षण नहीं दिया जाता है।
  • अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति, महिला, बीपीएल, अलग-अलग विकलांग व्यक्ति और अल्पसंख्यक।

नोट: स्कूल छोड़ने वाले सीधे यहां क्लिक करके पंजीकरण करा सकते हैं। अगर आप कॉलेज ड्रॉपआउट हैं, तो आप 3-4 घंटे में अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं। जीएसटी सुविधा केंद्र® से जुड़ें।

पात्रता (Eligibility)

पीएमजीदिशा के बारे में कुछ अन्य बातें

  • पाठ्यक्रम की अवधि

इस कार्यक्रम की पाठ्यक्रम अवधि न्यूनतम 20 घंटे है। इसे न्यूनतम 10 दिनों और अधिकतम 30 दिनों के लिए आयोजित किया जा सकता है।

  • निर्देश का माध्यम

प्रशिक्षण की सामग्री अंग्रेजी के अलावा भारत की कई अनुसूचित भाषाओं में उपलब्ध है।

  • योजना प्रकार

केंद्र सरकार की योजना

  • प्रशिक्षण स्थान

निकटतम प्रशिक्षण केंद्र / कॉमन सर्विस सेंटर (CSC)

GST Suvidha Kendra

पीएमजीदिशा के लाभ

  • इस योजना के तहत, ग्रामीण भारत में प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को डिजिटल रूप से प्रशिक्षित किया जाएगा। हर व्यक्ति इससे डिजिटल शिक्षा ले सकेगा।
  • इस योजना की मदद से ग्रामीण लोग इंटरनेट का उपयोग कर सकेंगे।
  • इस योजना के कारण ग्रामीण लोग लैपटॉप और टैबलेट जैसे डिजिटल उपकरणों का उपयोग कर सकेंगे। वे कंप्यूटर, एंड्रॉइड मोबाइल आदि का उपयोग करेंगे।
  • डिजिटल उपकरणों के उचित ज्ञान के साथ, आप ऑनलाइन भुगतान करने में सक्षम होंगे। आप अन्य सरकारी ऐप्स के बारे में भी ऑनलाइन जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

प्रशिक्षण प्रक्रिया

प्रशिक्षण की प्रक्रिया 20 घंटे की होती है। इसे कम से कम दस दिन और अधिकतम तीस दिन में पूरा करना होता है।

परिणामों

  • डिजिटल उपकरणों की मूल बातें समझना महत्वपूर्ण है। यहां, मूल बातों का अर्थ शब्द, नेविगेशन और उद्देश्य है।
  • डिजिटल उपकरणों का उपयोग करके जानकारी का उपयोग, प्रबंधन, निर्माण और साझा करने के लिए।
  • इंटरनेट का उपयोग करते हुए एक जिम्मेदार तरीके से ब्राउज़ करना आवश्यक है।
  • तकनीक का उपयोग करें ताकि आप प्रभावी ढंग से संवाद कर सकें।
  • अपने दैनिक जीवन में योगदान को स्वीकार करें।
  • कैशलेस ट्रांजेक्शन के लिए जाएं। इसके लिए आपको ईवॉलेट/एईपीएस/यूपीआई का इस्तेमाल करना होगा।

प्रशिक्षण भागीदार

यह योजना कई गैर सरकारी संगठनों, शैक्षणिक संस्थानों, कॉरपोरेट्स आदि द्वारा समर्थित है। PMGDIKSHA का एक प्रशिक्षण भागीदार भारत में पंजीकृत होना चाहिए। भागीदारों के पास निश्चित उद्देश्य और अच्छी तरह से प्रलेखित प्रक्रियाएं होनी चाहिए। उन्हें शिक्षा/आईटी प्रशिक्षण की पूरी श्रृंखला को कवर करना चाहिए।

प्रशिक्षण भागीदारों का कर्तव्य

  • चिन्हित जिलों/ग्राम पंचायतों/ब्लॉकों में प्रशिक्षण केन्द्रों को चुनने के लिए प्रशिक्षण भागीदार जिम्मेदार हैं। ये केंद्र समनुदेशिती को प्रशिक्षण प्रदान करने में सहायक होंगे।
  • प्रशिक्षण भागीदार यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार हैं कि प्रशिक्षण केंद्र पीएमजीदिशा की आवश्यकताओं को पूरा करता है।
  • उनका काम अपने क्षितिज के तहत केंद्रों के पूरे काम का ऑडिट करना है।
  • एक प्रशिक्षण भागीदार केंद्रों को जमा किए गए कार्य की रिपोर्ट करने के लिए जवाबदेह होगा।
gst suvidha kendra ads banner

Share this post?

Bipin Yadav

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

twelve − 10 =

Shares